Short Stories

आपका भविष्य

एक मुनिराज ने अपनी दिव्य देशना के पश्चात् कहा – मैं सबका लौकिक भविष्य बता सकता हूँ,  यदि आप लोग जानना चाहते है तो, सभी लोगो ने हाथ छोड़कर कहा – मेरा भविष्य बता दीजिए, मेरा भविष्य बता दीजिए। मुनिराज ने कहा – यदि अलग अलग सबका भविष्य बताने लगूं तो ध्यान अध्ययन कब करुंगा?  मैं सबका भविष्य एक साथ बता देता हूँ। – सुनों, जिसने भी संसार में जितना जो कुछ जोड़ रखा है – वह सब यहीं छोड़कर जाना पडे़गा – यह सभी का भविष्य है।

Share:

Leave a Reply

%d bloggers like this: