Short Stories

संसारी की दशा

चन्द्रप्रभु तीर्थंकर अपने पूर्वभव में एक राजकुमार थे। एक दिन उन्होंने देखा कि सामने तालाब में कमल को देखकर हाथी उसे तोड़ने को उसमें घुस गया और घुसते ही वह कीचड़ में फंस गया। वह ज्यों-ज्यों निकलने की कोशिश करता, वैसे ही और फंसता जाता था, आखिर वह उसमें से न निकल सका और वहीं प्राण देकर मर गया। राजकुमार ने यह दृश्य देखकर विचार किया – यही तो इस संसारी जीव की दशा है कि विषय भोगों में फंसकर अपने कल्याण मार्ग की ओर कभी देखता नहीं है और अपने प्राण गंवा देता है। यह विचारकर वे अपनीआत्मसाधना के लिये दिगम्बर मुनि बनकर वन में चले गये।

Share:

Leave a Reply

%d bloggers like this: