Short Stories

कुमारपाल की करुणापूर्ण सूझबूझ

जैन सम्राट कुमारपाल के राज्यकाल में भी कुछ लोग कंटकेश्वरी देवी के समक्ष पशुओं का बलिदान करते थे। नवरात्रि के समय कुमारपाल ने अपनी ओर से बहुत से पशु देवी के मन्दिर में शाम को बन्द करा दिये। सुबह जाकर सब जनता के समक्ष ताला खोलकर वे पशु निकालकर सबसे कहा – भाइयों! यदि देवी को पशु भक्षण करना होता तो वह रात्रि को सब पशुओं को खा जाती, किन्तु उसने ऐसा नहीं किया। इससे पता चलता है कि देवी पशुबली नहीं चाहती।

इस प्रकार जनता को समझाकर पशुबलि की प्रथा अपने राज्य में जनता की सलाह से हमेशा को बन्द कर दी थी ।

Share:

Leave a Reply

%d bloggers like this: