Short Stories

अच्छाइयाँ-बुराइयाँ

एक दिन एक मनुष्य ने अपने को काँटो से बचाकर बड़े ध्यान पूर्वक गुलाब के फूल तोड़े। तभी एक मनुष्य ने उस आदमी से पूछा-क्यों भाई! जब भी तुम यहाँ पौधे के पास आते हो तो उनके फूल -फूल तोड़ लेते हो और काँटो को वहीं छोड़ देते हो। मनुष्य बोला यह तो मैं ठीक ही करता हूँ। मनुष्य बोला – लेकिन जब तुम किसी मनुष्य के पास जाते हो तो उसकी सिर्फ बुराइयाँ ही देखते हो, अच्छाइयों की तरफ तुम्हारी नज़र ही नहीं जाती, ऐसा क्यों?

Share:

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *