Short Stories

डरना ही मौत है

किसी सराय में एक व्यक्ति रात्रि विश्राम के लिए रुका। रात्रि को भोजन करके वो सो गया। प्रातः वह अपने गन्तव्य को चल दिया। एक वर्ष बाद वह पुनः सराय मालिक से मिला। मालिक ने आश्चर्य के साथ पूछा – “आप जीवित कैसे?” यात्री ने पूछा-“क्यों क्या बात है?”  सराय मालिक ने कहा- “एक वर्ष पूर्व आप रात्रि को हमारे यहाँ ठहरे थे। उस रात्रि भोजन में एक जहरीला सर्प गिर गया था। विषाक्त भोजन करने वाले अन्य पाँच व्यक्ति दूसरे दिन मर गये। पर आज आपको जीवित देखकर मुझे भारी अचरच हुई। मैं तो आपको  मृतक ही मान रहा था।” वह व्यक्ति यह घटना सुनकर इतना अधिक भयभीत हुआ कि तुरन्त बेहोश होकर ज़मीन पर गिरा और थोड़ी ही देर बाद हृदय की धड़कन बन्द होने से उसकी मृत्यु हो गयी।

Share:

Leave a Reply

%d bloggers like this: