Short Stories

विकार की नग्नता ही दिगंबरत्व हैं

एक व्यक्ति दिगंबर मुनिराज को देखकर व्यंग कसते हुए कहने लगे – यदि नग्न होने से मुक्ति होने लगे तो सभी पशु पक्षी मोक्ष चले जायेंगे।

उत्तर दिया-जो भीतर के विकार परिग्रह से नग्न हो उसका बाहर से नग्न होना मुक्ति का कारण है। केवल बाहर की नग्नता धर्म नहीं हैं।

Share:

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *