Short Stories

यह सौदा और खरीददार

गधों पर अजीब सामान लदा हुआ देखकर राहगीर ने पूछ ही लिया कि भाई! इनमें क्या लिए जा रहे हो?

उत्तर मिला-इन पाँचो गधों पर पाँचो तरह का सामान है। उनमें एक पर अत्याचार, दूसरे पर घमण्ड, तीसरे पर ईर्ष्या, चौथे पर बेईमानी और पाँचवे पर मायाचारी लिये जा रहा हूँ।

राहगीर ने आश्चर्य से पूछा – क्या इनका भी कोई खरीददार हो सकता है?

गधेवाले ने कहा-अजी क्यों नहीं, यह सब बिकता ही रहता है। देखिए पहले गधे के माल को राजा, दूसरे को रईस, तीसरे को विद्वान, चौथे को व्यापारी और पाँचवे को स्त्रियाँ खरीदने को लालायित रहती हैं।

राहगीर ने अपने प्रशन का उत्तर गधेवाले से पाकर यह सोचता हुआ चला गया कि हे भगवान! इस दुनिया के ऊँचे पद वाले राजा महाराजा, रईस, विद्वान, व्यापारी और स्त्रियाँ कब अपने कर्त्तव्य  को समझेंगे?

Share:

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *