Daily Archives: October 2, 2015

Short Stories

उत्तम क्षमा

न कोई मेरा शत्रु है न मित्र, मैं स्वयं वीतरागी ज्ञानी, ज्ञाता-दृष्टा हूँ। मेरे में उत्तम क्षमा सदा ...
Short Stories

छटी शती का भारत

चन्द्रगुप्त द्वितीय के शासनकाल में चीनी यात्री फाह्यान ने भारत की यात्रा कर अपने संस्मरण में लिखा है ...
Short Stories

मृत्यु से पहले

एक ब्राह्मण था। अध्ययन करने के लिए काशी गया। पढ़-लिखकर वह होशियार हो गया। अपने ग्राम में आया। ...
Short Stories

उपकारी को प्रथम नमस्कार

भैरण्ड पक्षी द्वारा स्वर्णद्वीप में जाने के लिए चारुदत्त का मामा एक बकरे को मार रहा था। बकरे ...
Short Stories

अकस्मात् कुछ नहीं

एक दिगम्बर साधु जंगल में रहते थे। एक बार एक राजा साहब उस जंगल में शिकार करने गये। ...
Short Stories

अपूर्व दृढ़ता

बाबा लालमनदास जी सं॰ 1956 में दिल्ली के कुछ  धर्मबन्धुओं के साथ सम्मेदशिखर जी की यात्रा को गये ...
Short Stories

मानव जीवन का मूल्यांकन

राजा भोज वन भ्रमण के लिये गये थे। रास्ता भूल जाने पर भूख प्यास से पीड़ित वह एक ...
Short Stories

सौहार्द का रहस्य

राजा शातवाहन के राजपन्त्री के परिवार में एक सौ से भी अधिक व्यक्ति थे। वे सभी बड़े प्रेम ...
Short Stories

वस्तु विज्ञान ही सच्चा त्याग है

छात्रावस्था में विद्यालय की ओर से एक नदी के किनारे सहभोज था। वह नदी छोटी थी किन्तु रेत ...
Short Stories

भौतिक जीवन कामना के छिद्र

एक सज्जन ने पूछा – भगवान की पूजा करके भी मेरे संकट दूर क्यों नहीं होते? मैंने कहा ...