Daily Archives: March 16, 2015

Short Stories

निरीह दानी

युग बीते, शताब्दियां बीत गई, किन्तु जगडुशाह का दान आज भी अपनी असामान्य विशेषताओं के कारण इतिहास का ...
Short Stories

जहाँ मैं हूँ, वहाँ मृत्यु नहीं?

कविवर पं. भागचंद जी जीवन के अन्तिम दिनों में मरणासन्न अवस्था में शांत पड़े थे। उससे एक दिन ...
Short Stories

संसार की बेड़ी

नारायण नामक एक बालक बचपन से ही संसार से विरक्त सा रहता था। उसका अधिक समय भजन-पूजन, ज्ञान, ...
Short Stories

भेदविज्ञानी को कष्ट कैसा?

वही सुकुमाल जिन्हें मखमली गद्दों पर एक राई का दाना चुभ रहा था, दिये के प्रकाश में आँसू ...
Short Stories

दहेज में मांगा जैन मंदिर

पिता के स्वर्गवासी हो जाने के कारण छोटी उजम बहन की शादी के अवसर पर होने वाली विधि ...
Short Stories

मिथ्यात्व की रस्सी से बंधा जीव

संक्रान्ति के पावन प्रसंग पर प्रयाग में एक मेला था। काशी के कुछ पण्डों ने विचार किया कि ...
Short Stories

कोल्हु का बैल

एक व्यक्ति ने पूछा – कोल्हु के बैल की आँख पर पट्टी क्यों बाँधी जाती है? उसे उत्तर ...
Short Stories

अखण्ड ब्रह्मचर्य की महिमा

भरत क्षेत्र के कच्छ देश में विजय नामक श्रावक रहता था। उसने कृष्ण पक्ष में ब्रह्मचर्य पालन का ...
Short Stories

अछूत

एक त्योहार के दिन सबेरे गाँव के सभी लोग कावेरी नदी में स्नान करने पहुँचे। पं. काँचनशर्मा नदी ...
Short Stories

बोली से बड़प्पन की पहचान

जंगल में राजा, मंत्री और सिपाही ये तीनों घोडों को दौड़ाते-दौड़ाते अलग-अलग बिछुड़ गये। रास्ते में एक नेत्रहीन ...