Daily Archives: October 7, 2013

Short Stories

चन्दन का कोयला

चारों और त्राहिमाम लगातार दो वर्षो से वर्षा का नाम नहीं था। इस कारण दूर-दूर तक कहीं भी ...
Short Stories

साधना का लक्ष्य

स्वर्णरस की सिद्धि प्राप्त होने पर भर्तृहरि ने अपने बड़े भाई आचार्य शुभचन्द को १ तुम्बी में रस ...
Short Stories

यह है आदर्श दान!

जयपुर के दीवान अमरचन्द जी आदर्श दानी थे। किसी दीन दुःखी का पता चलने पर उसके किसी रिश्तेदार ...
Short Stories

उदार चरित

अपने पड़ोसी का फटा हुआ कुरता देखकर दर्जी को बुलाया और नाप देते समय उनकी तरफ इशारा कर ...
Short Stories

अब किसी माता को नहीं रुलाऊँगा

तीर्थंकर वर्द्धमान जब दीक्षा लेने जाने लगे तो माता त्रिषला के अनायास आँसू निकल ही आये। यह देखकर ...
Short Stories

आप जैन नहीं है अगर

एक जैन सा॰ रेल में रात को भोजन कर रहे थे। बगल में बैठे सज्जन ने पूछा – ...
Short Stories

धर्म की लगन के आगे

सहारनपुर के लाला जंबूप्रसाद जी जिन मंदिर में भक्ति भाव से पूजा कर रहे थे। उसी समय अंग्रेज ...
Short Stories

गर्व किस पर ?

एक सम्राट मुनिराज के पास उपदेश सुनने के लिये पहुँचे। सम्राट ने बड़े गर्व से अपना परिचय दिया। ...
Short Stories

जब आवे सन्तोष धन

महर्षि रमण की लंगोटी फट गई थी, तो वह दो सूखे काँटे ले आये, उनसे लंगोटी छेद करके ...
Short Stories

इसे कहते हैं ईमान

पाठशाला में फर्नीचर बनाने का काम चल रहा था। कुछ लकड़ी के टुकड़े यहाँ वहाँ पड़े थे, उनको ...